WARNING: Sexually Explicit Content

चूत के भूखे मिथुन बस चोदते रहो मेरी चूत को – हिंदी सेक्स स्टोरी

+0-00 ratings

चूत के भूखे मिथुन बस चोदते रहो मेरी चूत को – हिंदी सेक्स स्टोरी : दोस्तों में एक रंडी किस्म की सेक्सी और हॉट लड़की हूँ और अभी कॉलेज में सेकंड इयर में थी। उस समय मेरा नया-नया बॉय-फ्रेंड बना था यह गांडू मेरा दूसरा बॉय-फ्रेंड था और मैंने इससे अभी तक अपनी चूत और गांड नहीं चुदवाई थी पर ‘हाँ’ हम ऊपरी सेक्स काफी किया करते थे हमने ओरल सेक्स भी करा है, जैसे चुम्मी लेना एक दुसरे के मुह में मुह लगा कर होंठो को चुसना, एक दूसरे के गुप्त अंगों को दबाना और कुछ प्राइवेट चीजें जैसे कि आप लोग भी करते हैं चुदाई करने से पहले।

एक दिन हम लोग कॉलेज में बैठे थे और लेक्चर से बोर हो रहे थे, तभी मेरे बॉय-फ्रेंड चूत के भूखे मिथुन ने कहा- चलो कहीं बाहर चलते हैं, क्लास में तो बोर हो रहे हैं। मैंने भी ‘हाँ’ में ‘हाँ’ मिला दी और हम पीछे के गेट से बाहर निकल गए उसने अपनी बाइक निकाली और फिर हम ‘मेघदूत गार्डन’ आ गए ताकि थोड़ी देर बैठ कर आराम से चूमाचाटी करेंगे, फिर घर चले जायेंगे। इरादा तो यही था, पर शायद किस्मत में कुछ और ही लिखा था।

के भूखे मिथुन बस चोदते रहो मेरी चूत को हिंदी सेक्स स्टोरी - चूत के भूखे मिथुन बस चोदते रहो मेरी चूत को - हिंदी सेक्स स्टोरी

चूत के भूखे मिथुन बस चोदते रहो मेरी चूत को – हिंदी सेक्स स्टोरी

जैसे ही हम वहाँ पहुँचे  चूत के भूखे मिथुन ने कहा- चलो मेरे घर पर ही चलते हैं, उधर अभी कोई नहीं है आराम से शांति से बात करेंगे। मैंने कहा- ठीक है, चलो वहीं चलते हैं। चूत के भूखे मिथुन ने बाइक निकाली और हम उसके घर की ओर जाने लगे।हम उसके घर पर पहुँचे और उसने मुझे अपना बेड की तरफ इशारा किया और बोला- तुम बैठो, मैं आता हूँ। मैं उसके बिस्तर पर दीवार पर सर टिका कर बैठ गई और पास में रखी एक किताब देखने लगी।

थोड़ी देर बाद चूत के भूखे मिथुन आया और वो भी मेरे बगल में वैसे ही बैठ गया, जैसे मैं बैठी थी और मुझे देखने लगा। मैंने चूत के भूखे मिथुन से कहा- पानी ला दो यार.. बहुत प्यास लग रही है। मिथुन उठा और रसोई में चला गया। उसको आने में थोड़ी देर हो गई और जब वो नहीं आया तो मैं वहीं लेट गई।

मैंने सोचा जब तक वो नहीं आता है, तब तक थोड़ी देर मैं आराम ही कर लेती हूँ। मैं लेटी ही थी कि चूत के भूखे मिथुन मेरे ऊपर आ गया और मेरे मम्मे पकड़ कर बगल में लेट गया। मेरे होंठों के पास आकर बोला- यार, पीने का पानी नहीं है, अभी मैंने फ़ोन किया है थोड़ी देर में बन्दा लेकर आ जाएगा। उसके बाद चूत के भूखे मिथुन मुझ से चिपक गया और मुझे चूमा चाटी करने लगा और मेरे मम्मे भी दबा रहा था। मैंने भी उसका साथ दिया और उसे चूमा चाटी करने लगी।

फिर चूत के भूखे मिथुन ने अपना एक पैर मेरे पैरों के ऊपर रख दिया और चूमा चाटी करना जारी रहा। उसके बाद वो अपने हाथ मेरी जाँघों पर फेरने लगा तो मैंने अपना हाथ पीछे से उसकी पीठ पर रख दिया और सहलाने लगी।

फिर चूत के भूखे मिथुन ने एक हाथ से अपनी बेल्ट खोली और उठा और मेरे ऊपर लेट गया और मेरे दोनों हाथ अपने हाथों से पकड़ लिए और मुझसे चूमा चाटी करने लगा। मुझे नीचे उसका तना हुआ लंड महसूस हो रहा था, जबकि उसने अभी सिर्फ बेल्ट खोला था। चूमा चाटी करते-करते मैं उससे लिपट गई तो वो मेरी गरदन को चूमने लगा। फिर वो मेरे ऊपर से उठा और बगल में लेट गया तो मैंने भी अपने घुटने ऊपर किए।

Click Here >>  सेक्सी रंडी भाभी को अलग अलग तरीके से चोदा हिंदी सेक्स स्टोरी

अब चूत के भूखे मिथुन मेरे बगल में लेट कर मुझे फिर से चूमा चाटी करने लगा, मैं भी उसे चूमा चाटी करने लगी और दोनों हाथों से उसकी पीठ और चूत के भूखे मिथुन भी मुझे आगोश में लेकर अपनी टाँगों के बीच में जकड़ लिया और अपने हाथ मेरे मम्मों के ऊपर फिराने लगा। हमारी चूमा-चाटी जारी थी।

चूमा चाटी करते-करते चूत के भूखे मिथुन का हाथ मेरे पजामे के नाड़े को टटोलने लगा। मैंने अपने घुटने ऊपर कर लिए और चूत के भूखे मिथुन के बालों को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर चूमती रही। थोड़ी देर बाद चूत के भूखे मिथुन ने फिर से मुझे अपनी टाँगों से दबा लिया और मेरे चूतड़ों पर कुछ मिनट तक हाथ फिराता रहा।

चूत के भूखे मिथुन ने मेरे कुरते की डोरी पीछे से खोल दी और उसे मेरे कन्धों से सरकाने लगा, तो मैं भी अब गर्म होकर मूड में आ गई था सो खुद उठ गई और मैंने अपना कुरता खुद ही उतारने लगी और चूत के भूखे मिथुन से कहा- मेरा हाथ निकाल दो। तो उसने हाथ लगा कर मेरा कुरता निकाल दिया।

अब मैं और चूत के भूखे मिथुन दोनों बैठे थे। चूत के भूखे मिथुन मेरे पीछे बैठ गया और मेरी पीठ पर हाथ फेरने लगा और फिर मुझे कमर से पकड़ कर खींच कर अपनी गोद में बिठा लिया और फिर मेरी ब्रा में से मेरे मम्मे बाहर निकालने लगा।

मैंने उसके हाथ रोकने चाहे, पर वो नहीं माना और मुझे फिर से चूमा चाटी करने लगा और साथ ही साथ अपने हाथों से मेरे मम्मे भी दबाता रहा। थोड़ी देर बाद उसने मेरी ब्रा के हुक खोल दिए और फिर मेरे मम्मों को अपने होंठों से चूसने लगा।

मैं एकदम से चुदास से भर उठी और फिर मैं उठ गई उसने पीछे से मेरी ब्रा निकाली और अपने दोनों हाथ मेरे मम्मे पकड़ लिए और कभी नीचे, कभी ऊपर, कभी मेरी पीठ पर चूमा चाटी कर रहा था। कभी अपनी जीभ से चाट रहा था और फिर वो मेरी गर्दन को चूमा चाटी करने लगा। एक बार फिर मैं उसकी गोद में लेट गई और वो एक बार फिर से मेरे उरोजों को मसलने लगा और फिर अपने होंठों से चूसने लगा।

अब मुझे अजीब सा लग रहा था। मैंने उसके हाथ हटाने चाहे, पर वो नहीं माना, मेरे चूचुकों को चूसने लगा। मैंने दोनों हाथों से उसके हाथ हटाने की कोशिश की, पर उसने अपने दोनों हाथों से मेरे हाथ पकड़ कर अलग कर दिए और फिर से मेरे दुद्दुओं को चचोरने लगा। करीब दस मिनट तक वो चचोरता रहा।

फिर मुझसे न रहा गया तो मैंने जबरदस्ती करके हाथ छुड़ा लिए और अपने दोनों कबूतरों को दोनों हाथों से ढक लिया ताकि वो और न कर पाए। तब उसने मेरे पजामे का नाड़ा खोला और मेरी सलवार निकालने लगा। उसने मेरी आधी सलवार नीचे की क्योंकि मैं उसकी गोद में लेटी थी और अब वो मेरी चूत को सहलाने लगा।

फिर उसने मुझे गोद से उठाया और मैं फिर बिस्तर पर लेट गई। वो उठ कर मेरी सलवार नीचे करके निकाल दिया और फिर उसने अपनी टी-शर्ट भी उतार दी और फिर अपनी पैंट और अंडरवियर भी उतार दी। अब हम दोनों नंगे थे।

मैं जहाँ लेटी हुई थी, वहीं चूत के भूखे मिथुन अभी बैठा था। चूत के भूखे मिथुन मेरे पास आ गया और मेरी चूत चाटने लगा और अपनी जीभ मेरे चूत की पँखुड़ियों के बीच में लगा कर अन्दर-बाहर करने लगा।

मुझे झुरझुरी सी हुई और मेरी सिसकारियाँ निकलने लगीं, “आआह्हह्हह्ह ऊ ऊऊह्ह्ह्ह्ह्ह” थोड़ी देर तक वो इसी मुद्रा में मेरी चूत चाटता रहा और फिर मेरे पास लेट गया और मुझे फिर से चूमा चाटी करने लगा। थोड़ी देर बाद वो मेरे बगल में आकर लेट गया। उसका लंड खड़ा था।

Click Here >>  Switch It Up चूत चाटते हुए HD पोर्न फिल्म फ्री XXX

मैंने अपने लेफ्ट हैण्ड से उसका लंड पकड़ा और सहलाने लगी, तो चूत के भूखे मिथुन ने भी अपना हाथ मेरी चूत पर रख दिया और उसमें उंगली करने लगा। मैं उसका लंड हिलाती रही और उसको नशीली आँखों से देखती रही।

फिर मैंने उसी पोजीशन में उसके लंड को कंडोम पहनाया। फिर थोड़ी देर बाद वो मुझसे चिपक कर कमर के बल हो गया और अपने लंड को मेरी चूत के छेद पर लगा कर दाने से रगड़ने लगा। कभी वो अपने लंड से मेरी चूत को स्पर्श करता तो कभी मेरे नाभि को। फिर चूत के भूखे मिथुन उठा औऱ मेरी टाँगें फैला दीं और मेरी टाँगों के बीच आकर बैठ गया और मेरी टाँगें अपने घुटनों के ऊपर रख ली और अपना लंड मेरी चूत में ‘फटाक’ से झटका मारा.. और उसका मूसल जैसा लौड़ा मेरी चूत में फंस गया। मुझे बहुत दर्द हुआ।

आप मेरे दर्द का अहसास इसी बात से लगा सकते हैं कि मैंने अपनी कमर उठा ली, इतनी ज़ोर का दर्द हुआ..! दर्द इतना था कि बार-बार मेरी छाती ऊपर उठी जा रही थी। मेरे मुँह से, “ऊऊह्ह्ह्ह आआह्हह्हह अॅस्स्स्स्स आआईईईईए,” की आवाजें आ रही थीं।

उधर चूत के भूखे मिथुन ने अपना लंड निकाल कर एक बार फिर से अन्दर ठूँस दिया। मैं फिर से उसी हालत में पहुँच गई, “ऊऊईई ईईई ऊऊऊ ऊऊओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह आआ… आआअह्ह्ह्ह्ह् ह्ह्ह्ह्ह्ह।” चूत के भूखे मिथुन मेरे ऊपर आकर लेट गया और मेरी गरदन अपने हाथों में पकड़ ली और फिर उसने लौड़े को मेरी चूत में अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।

मुझे अभी भी दर्द हो रहा था, इसलिए चूत के भूखे मिथुन उठा और फिर से उसने लंड मेरी चूत से एक बार बाहर खींच कर दुबारा से पेल दिया अब उसका लौड़ा सही जगह फिट हो गया था। वो लौड़े को अन्दर-बाहर करने लगा।

जहाँ एक तरफ मेरे मुँह से, “आआअह्ह आआईईए ऊऊओईईइस्स्स,” जैसी आवाजें आ रही थीं, उधर दूसरी तरफ से, “फ्फ्फऊछह्ह फफू ऊकछह्हह्हह्ह,” की आवाजें आ रही थीं। ये लंड के अन्दर और बाहर आने के कारण आ रही थीं।

चूत के भूखे मिथुन मेरे ऊपर लेट सा गया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और अपनी चुदाई जारी रखी। करीब दो मिनट बाद मेरा दर्द कम होने लगा और अब लंड के अन्दर-बाहर होने से मज़ा आ रहा था।

मैं अपने हाथ चूत के भूखे मिथुन की कमर पे रख कर चुदाई का मज़े लेने लगी। जैसे ही चूत के भूखे मिथुन को इसका अहसास हुआ, उसने स्पीड और तेज़ कर दी और मेरा मज़ा भी दोगुना हो गया। अपने हाथों से चूत के भूखे मिथुन की पीठ जोर से पकड़ ली और अपनी टाँगें उसके टाँगों के ऊपर चढ़ा कर उसको भींच लिया।

चूत के भूखे मिथुन जहाँ मुझे जी भर के चोद रहा था वहीं साथ में वो मुझे चूमा चाटी भी करते जा रहा था, ताकि मुझे दर्द का अहसास न हो। थोड़ी देर बाद उसने स्पीड कम कर दी, पर हमारा चूमा चाटी जारी रहा। थोड़ी देर बाद जब मेरा दर्द बहुत कम हो गया, तो मैंने अपनी टाँगें सीधी कर लीं और फिर चूत के भूखे मिथुन ने भी अपनी टाँगें सीधी करके मेरे ऊपर सीधे लेट कर चुदाई करने लगा। मैंने अपने हाथ चूत के भूखे मिथुन के चूतड़ों के ऊपर रख लिए और चुदाई का आनन्द लेने लगी। थोड़ी देर बाद चूत के भूखे मिथुन उठा उसने अपने दोनों हाथों मेरे कंधों पर रखे और उसने कन्धों के बल पे खड़ा हुआ और फिर मुझे उसी पोजीशन में चोदने लगा।

Click Here >>  60 साल के डोकरे माली का लंड 18 साल की जवान लड़की की चूत में

कुछ देर बाद जब हम थक गए, तो वो मेरे ऊपर लेट गया और मुझे चूमा चाटी करने लगा और उसका लंड अभी भी मेरी चूत में ही था। मैंने चूत के भूखे मिथुन की कमर को दोनों हाथों से पकड़ रखा था। थोड़ी देर बाद जब चूत के भूखे मिथुन की ताकत वापस आई तो वो फिर उठा और एक बार और अपने हाथ मेरे कंधों पर रख कर और झुकी हुई पोजीशन में, जैसे कि कोई चौपाया हो, उसके जैसे बन कर मुझे चोदने लगा और मुझे चूमता रहा।

थोड़ी देर में वो फिर थक गया और मेरे ऊपर लेट गया और फिर से कुछ सेकण्ड्स बाद उसने लेटे-लेटे चूत चोदना शुरू कर दी और स्पीड तेज़ कर दी। करीब पाँच मिनट तक वो ऐसे ही मुझे चोदता रहा और फिर वो मेरे ऊपर से उठा और मुझे अपने ऊपर बिठा लिया।

अब मेरी बारी थी, मैंने दोनों टाँगें उसकी टाँगों के बाहर रखीं और अपनी चूत में उसका लंड घुसाया और उसके ऊपर लेट गई और चूमा चाटी करने लगी और साथ ही साथ अपने चूतड़ों को ऊपर-नीचे करने लगी। चूत के भूखे मिथुन के हाथ मेरे नितम्ब बजा रहे थे और मैं चुदाई में व्यस्त थी। थोड़ी देर बाद जब मैं रुक गई, तो चूत के भूखे मिथुन ने अपने हाथ मेरे चूतड़ों के बीच में गांड के छेद में उंगली डाली और उंगली करने लगा।

उसके बाद हम चूमा चाटी करने लगे। फिर चूत के भूखे मिथुन ने मुझे नीचे लिटाया और फिर थोड़ी देर बाद उसने अपना कंडोम निकाला और फिर उसने अपना लंड चूत की बजाए गांड के छेद में घुसा दिया और कहा- अब शुरू हो जाओ। मैंने अपने दोनों घुटने बिस्तर में रखे और घुटनों के बल मैं उछलने लगी और लंड मेरी गांड के अन्दर-बाहर होने लगा।

ऐसा मैंने करीब दस मिनट तक अलग-अलग तरीके से किया। मैं कभी गाँड को नीचे की तरफ बढ़ाती और ऊपर-नीचे करती, तो कभी सीधे ऊपर-नीचे करती थी। जब मैं थोड़ी थक गई तो मैं इधर-उधर करने लगी और थोड़ी देर बाद ही अलग-अलग पोजीशन में गांड की चुदाई जारी रखी। उसके बाद जब मैं बहुत थक गई तो चूत के भूखे मिथुन के ऊपर लेट गई।

थोड़ी देर बाद चूत के भूखे मिथुन ने कहा- बस तुम घुटने के बल ऐसे ही रहना, अब मैं घुसाता हूँ। अब मैं उसी पोजीशन में स्थिर थी और वो अभी कमर उठा कर लंड मेरे गांड के अन्दर-बाहर करने लगा। इस चुदाई के बाद जब हम दोनों का स्खलन हुआ तो हम बहुत थक गए थे और एक-दूसरे पर ही लेट गए। कब आँखें मुंद गईं.. कुछ पता ही नहीं चला। आपको मेरी कहानी कैसी लगी जरूर बताना।

 

 

 

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Bollywood Actress XXX Nude